Sunday, June 7, 2020

Yoga For Lungs Strength

हेल्दी और स्ट्रॉन्ग लंग्स के लिए कमाल है ये एक योगासन, पीठ दर्द और पेट के लिए भी है कारगर..

Best Yoga Asanas For Lungs: हेल्दी फेफड़ों के लिए योग (Yoga For Healthy Lungs) काफी कारगर हो सकता है. खासकर ऐसे समय जब पूरी दुनिया संक्रमण (Infection) से लड़ रही हों, जो हमारे फेफड़ों पर अटैक करता है. ऐसे में और भी खास हो जाता है कि हम फेफड़ों को मजबूत करने के उपाय (Ways To Strengthen The Lungs) करें और अपने लंग्स को हमेशा हेल्दी रखें. फेफड़ों को मजबूत रखने के लिए योग (Yoga To Keep Lungs Strong) काफी कारगर हो सकता है.


खास बातें :

  • > फेफड़ों को हेल्दी रखने के लिए फायदेमंद है भुजंगासन.
  • > यह जानें भुजंगासन को करने का सही तरीका.
  • > यह एक योग पीठ दर्द और पेट के लिए भी है फायदेमंद.

Best Yoga Poses For Lungs: लंग्स को हेल्दी रखने के लिए योग (Yoga) सबसे बेस्ट तरीकों में से एक हो सकता है. योग आपके संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए लाभकारी माना जाता है. लंग्स (Lungs) का हमारी सांस से सीधा संबंध है. बिना लंग्स के हमारा सांस लेना मुमकिन नहीं है. ऐसे में हेल्दी फेफड़ों के लिए योग (Yoga For Healthy Lungs) काफी कारगर हो सकता है. खासकर ऐसे समय जब पूरी दुनिया संक्रमण (Infection) से लड़ रही हों, जो हमारे फेफड़ों पर अटैक करता है. ऐसे में और भी खास हो जाता है कि हम फेफड़ों को मजबूत करने के उपाय (Ways To Strengthen The Lungs) करें और अपने लंग्स को हमेशा हेल्दी रखें. फेफड़ों को मजबूत रखने के लिए योग (Yoga To Keep Lungs Strong) काफी कारगर हो सकता है. कई लोग गुटका, तंबाकू और अत्यधिक धूम्रपान करते हैं जिससे लंग्स खराब हो सकते हैं.

रोजाना योग कर आप फेफड़ों (Lungs) को जवां बना सकते हैं. हेल्दी डाइट और हर रोज योग उम्र भर फिट रहने का आसान तरीका हो सकता है. योग (Yoga) करने से आप मानसिक और शारीरिक दोनों तल पर खुद को मजबूत महसूस करते हैं. फेफड़ों के लिए भुजंगासन (Bhujangasana) एक लाभकारी योग हो सकता है. यह आसान योग आपके लंग्स को हेल्दी रखने में मददगार हो सकता है. भुजंगासन एक ऐसा योगासन है जिससे न सिर्फ फेफड़ों को फायदा हो सकता है बल्कि यह आपके पेट और कोर के लिए फायदेमंद हो सकता है. 


रोजाना भुजंगासन करने के स्वास्थ्य लाभ | Health Benefits Of Bhujangasana


1. फेफड़ों को हेल्दी रखने में मददगार

हर कोई चाहता है कि वह हमेशा स्वस्थ और निरोगी रहे. फेफडों का इसमें काफी अहम रोल होता है. अगर आपके फेफडें हेल्दी हैं तो आपको सांस की समस्याएं होने का खतरा कम होता है. योग कर फेफड़ों को हेल्दी रखा जा सकता है. ऐसी ही एक योग है भुजंगासन जिसे करना काफी आसान है. यह आसन पेफड़ों के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है. इसे करने से फेफड़ों में सांस भरी जाती है. खुली हवा में यह आसन करने से फेफड़े खुलकर सांस लेने में मदद मिलती है. आसन करते वक्त सीने की मांसपेशियों में खिंचाव पैदा होता है, जिस वजह से अस्थमा पेशेंट्स की सांस प्रणाली को भी फायदा पहुंच सकता है. 

2. पेट को देता है फायदा

भुजंगासन करना काफी आसन है. भुजंगासन को अंग्रेजी में कोबरा पोज कहा जाता है. भुजंगासन न सिर्फ आपके फेफड़ों को हेल्दी रख सकता है बल्कि यह आपके पेट के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है. इस आसन को करने से आपका पाचन भी बेहतर हो सकता है. भुजंगासन करने से पेट की मसल्स स्ट्रेच होते हैं, जिस वजह से लोअर एब्डोमेन से जुड़ी परेशानियों से राहत मिल सकती है. इस आसन को पेट की चर्बी को कम करने के लिए भी किया जा सकता है. साथ कोर को मजबूत करने में भी यह फायदेमंद हो सकता है.

3. पीठ दर्द के लिए फायदेमंद 

कई लोग पीठ दर्द से परेशान होते हैं अगर आप इस सरल आसन को ट्राई करेंगे तो आपको इससे फायदा हो सकता है. भुजंगासन करने से पीठ की मांसपेशियां मजबूत हो सकती हैं. स्पाइन, ग्लूटियल मसल्स, आर्म्स, कंधे के लिए भी यह काफी प्रभावशाली माना जाता है. इस आसन का फायदा आपको रोज करने से ही मिलेगा. लंबे समय तक बैठे रहने से पीठ की मांसपेशियां अकड़ की समस्या से भी निजात दिलाने में भुजंगासन फायदेमंद हो सकता है.


भुजंगासन के अन्य फायदे :


- पेट सही रहता है.
- स्पाइन के लिए फायदेमंद.
- ग्लूटियल के लिए लाभदायक.
- मसल्स रखता है मजबूत.
- आर्म्स को हेल्दी रखने में फायदेमंद
- कंधे और जांघे की मजबूती के लिए लाभकारी
- ग्लोइंग स्किन के लिए असरदार
- मूड़ को ठीक करने में फायदेमंद

भुजंगासन करने का तरीका | Method Of Performing Bhujangasana

- जमीन पर पेट के बल लेट जाएं.
- अपने हाथों को सिर के पास कंधों के लेवल पर लाकर जमीन पर टिकाएं.
- धीरे-धीरे सांस अंदर भरते हुए ऊपर की तरफ उठें.
- जितनी देर हो सके सांस रोके रहें, फिर धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए जमीन की तरफ आ जाएं.
- ऐसा शुरूआत में 3 से 4 बार करें.
- शुरुआत में थोड़ी मुश्किल आएगी, बाजू में दर्द भी होगा, मगर हर रोज अभ्यास करने से सब ठीक हो जाएगा.



भुजंगासन के लिए बरतें ये सावधानियां

- जिन लोगों का पेट की परेशानी हो उन्हें यह नहीं करना चाहिए. जैसे पेट का ऑपरेशन, अपेंडिक्स.
- सही वक्त और खाली पेट ही इस आसन को करें.  
- पीठ में दर्द किसी चोट या अन्य वजह से है, तब भी यह आसन न करें.
- गर्भवती महिलाओं को इस आसन को करने की सलाह नहीं दी जाती है.




Saturday, June 6, 2020

The Best Fruits You Can Feed Your Body During Covid19 To Improve Your Immunity As Well As Health

11 Of The Best Fruits You Can Feed Your Body



While it’s no mystery that fruits provide vital nutrients, such as vitamins, minerals and antioxidants to your body, it pays dividend to be aware of the properties and benefits that different fruits have to offer by themselves.


Here’s a list of fruits that you need to know about:

#1. Pomegranates

11 Of The Best Fruits You Can Feed Your Body

Rich in antioxidants, such as tannins, anthocyanins, and ellagic acid, pomegranates provide potent protection against free radicals. Build up of free radicals over time increase the risk of contracting diseases. Additionally, rich in fibre and potassium pomegranates helps promote digestion. 

#2. Apples

11 Of The Best Fruits You Can Feed Your Body

Apples are rich in anti-oxidants and are have potent anti-cancer properties. The flavonoids, another compound that is omnipresent in apples protects the body against asthma, diabetes and even promotes mental health. There’s a good reason why they say an apple a day keeps the doctor away. 

#3. Bananas


Rich in potassium, carbohydrate, starch and pectin, bananas are a good source of fuel before a workout. They are useful in improving your blood sugar levels and providing an instant bout of energy. Pectin helps you improve your digestion, making bananas an ideal post meal treat as well. 


#4. Oranges


Oranges are one of the most popular nutritious fruits around the world for good reason. Not only are they loaded with Vitamin C, potassium and B Vitamins, such as thiamine and folate, they are also rich in citric acid. Citric acid helps in the absorption of iron and prevents anaemia.


#5. Pineapple


Loaded with anti-inflammatory enzymes, known to reduce the risk of a stroke, heart disease, arthritis and other diseases, pineapple is quite medicinal in nature. Rich in Vitamin C and bromelian, pineapple is also great for combating a cold and cough, post workout fatigue and is known to fight of bad breath. 


#6. Grapefruit


As the healthiest citrus fruit, it’s known for its effect in reducing your body’s insulin resistance and aiding in weight loss. Grapefruit helped significantly reduce cholesterol levels and is a powerhouse of vitamin C. Just half a grapefruit contains 50 percent of your vitamin C of daily intake. 



#7. Lemons


There’s a good reason why lemons are included in so many detox juices out there. The citric acid in lemons helps break down lipids and stimulates your digestive juices, which in turn aids in weight loss. They can help better your heart health due to their blood lipid and blood pressure lowering effects.


#8. Mangoes


Mangoes are also an excellent source of vitamin C and also contain antioxidants that can help reduce the risk of disease. They’re an exceptionally good source of beta-carotene, which give your immune system a good boost. In comparison to oranges they provide more than 50 percent of your daily vitamin C intake. They’re contain enzymes and fibre that help better your digestive process and lower the risk of colon cancer.


#9. Watermelon


Rich in vitamin A and C, watermelon are also known for their anti-cancer effects. Antioxidants, such as lycopene in watermelons, can help prevent the growth of tumours and also help bring your cholesterol and blood pressure under control. Containing up to 92% water watermelons are naturally hydrating in nature and satiating in nature. 


#10. Papaya


Papaya too is loaded with the anti-cancer antioxidant lycopene, vitamin C, A, potassium and folate. In fact, research shows that the body absorbs lycopene better from papaya than other fruits and vegetables rich in this antioxidant. It also loaded with enzymes that help relive you from indigestion and inflammation. 


#11. Cherries



Rich in antioxidants and carotenoids, which help reduce inflammation and prevent diseases, including cancer. Gym-goers too can benefit from aches and pains due to anti-inflammatory benefits. Cherries also have a high content of melatonin. Melatonin is a hormone that sends signals to your brain to switch off when its time to sleep, warding of insomnia and other sleep disorders. 



Wednesday, May 27, 2020

Yoga poses for reduce obesity and best shape

मोटापा बिगाड देगा आपके शरीर की शेप, चर्बी से राहत दिलाएंगे ये योगासन

आजकल मोटापा एक आम समस्या बन गया है। और इसका कारण है गलत जीवनशैली। दिन भर ऑफिस में बैठे-बैठे कमर और पेट के पास अतिरिक्त चर्बी जम जाती है, जो देखने में खराब लगता है। लेकिन अगर आप इन सबसे छुटकारा पाना चाहते हैं तो रोजाना नियम से कुछ खास योगासनों का अभ्यास करें। इसके अभ्यास से जल्दी ही शरीर सही आकार में आ जाएगा।

तितली आसन (Butterfly Pose)

तितली आसन बेहद ही सरल आसन है। यह आसन शरीर को सही आकार देता है। इस आसन के नियमित अभ्यास से आपका शरीर तनाव मुक्त भी रहता है। तितली आसन करने के लिए सबसे पहले अपने पैरों को फैलाकर सीधे बैठ जाएं। अब अपने दोनों पैरों को अंदर की ओर मोड़ लें।

ध्यान रहे कि आपके दोनों तलवे एक-दूसरे को छूने चाहिए। अब अपने दोनों हाथों से अपने दोनों पैरों को पकड़ लें। अब इस अवस्था में लंबी गहरी सांस लें। इसके बाद सांस छोड़ते हुए अपने घुटनों और जांघो को जमीन की तरफ दबाएं। अब तितली के पंखों की तरह अपने पैरों को ऊपर-नीचे हिलाने की कोशिश करें। धीरे-धीरे करके अपनी गति बढ़ाते जाएं। इस पूरी प्रक्रिया में सांस लेते रहें।

धनुरासन (Dhanurasana) 

धनुरासन शरीर के सही आकार के लिए बहुत फायदेमंद है। इस आसन को करने के लिए पूरे शरीर का इस्तेमाल किया जाता है। धनुरासन करने के लिए सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं। ध्यान रखें कि आपके पैरों को कुछ दूरी पर रखें और दोनों हाथो को सीधा रखें।

अब अपने घुटनों को मोड़कर कमर के पास ले जाएं और अपने तलवों को दोनों हाथों से पकड़ें। अब सांस लेते हुए अपनी छाती को जमीन से ऊपर उठाएं। अब अपने पैरों को आगे की ओर खीचें। अब अपना संतुलन बनाते हुए सामने देखें। इस आसन को करने के लिए थोड़े अभ्यास की जरूरत है इसलिए धीरे-धीरे इसका अभ्यास करें। 15-20 सेकेंड बाद सांस छोड़ते हुए अपने पैर और छाती को धीरे-धीरे जमीन की ओर लाएं। 

अर्धचक्रासन (Ardha Chakrasana) 

अर्धचक्रासन करने से पेट के आसपास वाले हिस्से पर दबाव पड़ता है। इसी के कारण पेट की चर्बी कम होती है और आपकी कमर सही आकार में बदलती है। इसके अतिरिक्त इस आसन के नियमित अभ्यास से कब्ज, सूजन और अन्य पाचन संबंधी समस्याएं कम होने लगती है।

अर्धचक्रासन को करने के लिए सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं। इसके बाद अपने हाथों को अपनी कमर पर रख लें और अपनी धड़ को पीछे की ओर झुकाएं। कोशिश करें कि आपका धड़ ज्यादा से ज्यादा पीछे की ओर झुका हुआ हो। इस अवस्था में करीब तीन से पांच मिनट तक रहते हुए सांस लें और छोड़े।

Wednesday, May 20, 2020

Yoga exercises for eyes after online class/work

ऑनलाइन पढ़ाई के लिए जरूरी है आंखों का व्यायाम




ऑनलाइन पढ़ाई की वजह से बच्चों और समय काटने के लिए सोशल मीडिया में सक्रियता के कारण बड़ों की आंखों पर पड़ने वाला जोर इन दिनों बढ़ गया है। इसलिए शरीर के साथ आंखों को भी फिट रखने की आवश्यकता है। और यह संभव है योग से।

आंखों का व्यायाम दिन में करीब एक बार करना चाहिए। व्यायाम के साथ ही आंखों को दिन में तीन-चार बार ठंडे पानी से धोना चाहिए। ठंडा पानी आंखों के लिए अमृत के समान है। आंखें प्रायः विटामिन 'ए' की कमी के कारण भी कमजोर हो जाती हैं। इसलिए विटामिन 'ए' की अधिकता वाले खाद्य पदार्थ जैसे गाय का दूध, आम, पपीता, गाजर, पालक आदि का सेवन पर्याप्त मात्रा में करना चाहिए।

 

आंखों के व्यायाम

  • आंखों की पुतलियों को दाएं से बाएं और बाएं से दाएं धीरे-धीरे 10-10 बार ले जाइए।
  • इसी तरह आंखों को ऊपर और नीचे 10-10 बार कीजिए।
  • ऊपर-दाएं-नीचे-बाएं इस प्रकार 10 बार घुमाइए। इसी प्रकार 10 बार उल्टी दिशा में घुमाइए।
  • पुतलियों को गोलाई में घड़ी की सुई की दिशा में 10 बार और उल्टी दिशा में 10 बार घुमाइए।
  • पहले सामने दूर की चीज देखिए, फिर उसी रेखा में पास की चीज देखें। ऐसा 10-10 बार कीजिए।
  • अन्त में दोनों हथेलियों को आपस में रगड़कर हलका गर्म कीजिए और आंखों को धीरे से दबाइए।

Saturday, May 9, 2020

योग जो नींद को प्रेरित करने में मदद करते हैं।

नींद नहीं आती? अनिद्रा का शिकार है? कुछ योग हैं जो नींद को प्रेरित करने में मदद करते हैं


शवासना से लेकर विपरीता करणी तक इन योगासनों को आजमा कर सोने में मदद करती हैं।

कोशिश करें कि ये आसान योग प्रतिरक्षा का निर्माण करें

बच्चे की मुद्रा या बालासन।
यह बहुत प्रभावी है जब यह आपको सो जाने में मदद करने के लिए आता है। बस, एक मजबूत तकिया पर अपनी छाती और अपने पेट को आराम दें। सुनिश्चित करें कि आपका बट आपकी टखनों को छूता है और जितना हो सके अपने हाथों को फैलाएं। जब आप इस मुद्रा में हों तो अपनी सांस को 30 सेकंड के लिए केंद्रित करें। हर 15 सेकंड के बाद दोहराएं।

_________________________________________________________


हैप्पी बेबी या आनंद बालासन

 इन पोज़ का नियमित रूप से अभ्यास करें। 

एक महान मुद्रा जो अवधि में ऐंठन और पेट की परेशानी के लिए अद्भुत काम करती है, बस अपने घुटनों को अपनी छाती के करीब लाने से शुरू करें और सुनिश्चित करें कि आपका टेलबोन गद्दे को छू रहा है। अपनी रीढ़ की मालिश करने के लिए आगे-पीछे रॉक करें या बस एक मिनट के लिए इस स्थिति में रहें, यह तनाव से राहत देता है और आपको सोने में मदद करता है।

_________________________________________________________

तितली या सुप्टा बधा कोंसाना

  बटर स्ट्रेचिंग।

इस मुद्रा को बद्धकोणासन इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसमें दोनों पावों के तलवों को जननांगों के पास,हाथों की मदद से जोर से पकड़ कर,एक विशेष कोण में साथ रखा जाता है। मुद्रा के दौरान पैरों की गति, तितली के हिलते पंखों कि भाँती प्रतीत होने की वजह से इसे तितली आसन भी कहा जाताहै। बैठ कर काम करते हुए मोची की तरह दिखने की वजह से इस मुद्रा को मोची मुद्रा भी कहा जाता है।

  • जाँघो, कटि प्रदेश एवं घुटनो का अच्छा खिंचाव होने से श्रोणि एवं कूल्हों में लचीलापन बढ़ता है।
  • लम्बे समय तक खड़े रहने एवं चलने की वजह से होने वाले थकान को मिटाता है।
  • मासिक धर्म के दौरान होने वाली असुविधा एवं रजोनिवृति के लक्षणों से आराम।
  • गर्भावस्था के दौरान लगातार करने से प्रसव में आसानी।
_________________________________________________________


    दीवार की मुद्रा या विपरीता करणी के पैर

    इस योग मुद्रा के कई फायदे हैं।
    यह योग मुद्रा आपको तनाव दूर करने में मदद करती है और आपको काम के बाद आराम करने में मददगार है। अपने पैरों को सीधा रखते हुए और संतुलन के लिए दीवार को छूते हुए पांच मिनट तक इस मुद्रा में रहें। सुखदायक तकिया का उपयोग करें और जब आप इस स्थिति में हों, तो अपनी आँखों को बंद करके सांस लेने पर ध्यान दें।
    _________________________________________________________

    शव मुद्रा या शवासना

    बहुत से लोगों के बीच सबसे आसान, इस योग मुद्रा से शुरू करें।
    इसके बारे में जाने का सबसे अच्छा तरीका अधिकतम आराम के लिए अपनी जांघों के नीचे एक तकिया रखकर है जो नींद की प्रक्रिया को सहायता करता है। बस अपने पैरों को चौड़ा करें और अपने हाथों को साइड पर रखें। आप अपने हाथों को अपने पेट पर भी आराम कर सकते हैं। सांस लेने पर ध्यान दें और अपने जबड़े और धड़ को रिलैक्स रखें।

    Monday, May 4, 2020

    How yoga changes your brain and mental health

    कैसे योग आपके मस्तिष्क और मानसिक स्वास्थ्य में परिवर्तन करता है


    यदि आप एक योग प्रशंसक हैं, तो आप शायद अच्छी तरह से जानते हैं कि इस अभ्यास से कितने शारीरिक लाभ हो सकते हैं। अतीत के अध्ययनों से पता चला है कि योग वजन घटाने, मांसपेशियों के निर्माण और टोनिंग, संयुक्त लचीलेपन और स्वास्थ्य और यहां तक ​​कि फाइब्रोमायल्गिया और संधिशोथ जैसी पुरानी दर्दनाक स्थितियों में मदद कर सकता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह प्राचीन प्रथा आपके मानसिक स्वास्थ्य और क्षमताओं को भी बेहतर बना सकती है।

    हल्के स्मृति हानि वाले वयस्कों के हाल के एक अध्ययन से पता चला कि आपके मस्तिष्क के लिए योग कितना स्वस्थ है।

    अध्ययन और यह क्या मिला

    शोधकर्ताओं ने योग के शारीरिक लाभों से अच्छी तरह वाकिफ होकर इस व्यायाम के मानसिक / संज्ञानात्मक लाभों के बारे में अधिक जानने की कोशिश की। ऐसा करने के लिए, उन्होंने मध्यम आयु वर्ग और पुराने स्वयंसेवकों के एक समूह को भर्ती किया, जिन्होंने साक्षात्कार के दौरान, अपनी यादों के बारे में चिंता व्यक्त की थी और वास्तव में संज्ञानात्मक गिरावट के एक हल्के रूप के साथ निदान किया गया था, एक शर्त जो एक अग्रदूत साबित हो सकती है। अल्जाइमर रोग और मनोभ्रंश के अन्य रूप। ये स्थितियां, यदि वे बिगड़ती हैं, तो रोगी के जीवन की गुणवत्ता पर गंभीर और नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।
     अनुसंधानकर्ताओं ने अपनी मानसिक गतिविधि / कार्य के लिए आधार रेखा स्थापित करने के लिए सभी रोगियों पर एक मस्तिष्क स्कैन किया 
     फिर उन्होंने प्रतिभागियों को दो अलग-अलग समूहों में विभाजित किया, जिनमें से एक ने एक घंटे का मस्तिष्क प्रशिक्षण सत्र और पंद्रह मिनट का दैनिक अभ्यास प्राप्त किया, जबकि दूसरे ने एक घंटे के कुंडलिनी योग सत्र के साथ पंद्रह मिनट का दैनिक अभ्यास किया (दूसरे शब्दों में, दोनों समूहों में) इन कमजोरियों के साथ समय की एक ही राशि खर्च की जाती है)।
    तीन महीने के इस अध्ययन के अंत में, सभी प्रतिभागियों को यह देखने के लिए फिर से ब्रेन स्कैन दिया गया कि क्या हस्तक्षेप का उनके संज्ञानात्मक स्वास्थ्य पर कोई प्रभाव पड़ा है। यह  पाया गया कि रोगियों के दोनों समूहों ने मस्तिष्क के क्षेत्रों में संज्ञानात्मक सुधार का अनुभव किया था जो स्मृति और भाषा कौशल को प्रभावित करते हैं। हालाँकि, योग में भाग लेने वाले समूह ने मस्तिष्क के उन क्षेत्रों में भी सुधार दिखाया जो एकाग्रता और ध्यान को नियंत्रित करते हैं; दूसरे शब्दों में, योग समूह भी इस अध्ययन से ध्यान केंद्रित करने और मल्टीटास्क करने की क्षमता के साथ आया था, यह दिखा रहा था कि मानसिक कार्यों को बेहतर बनाने के लिए योग मस्तिष्क प्रशिक्षण कार्यक्रम से बेहतर था  

    अध्ययन में संदर्भ
    इस अध्ययन के सबसे दिलचस्प हिस्सों में से एक शायद यह है कि यह अकेला खड़ा नहीं होता है। यह, बल्कि, सबूत के बढ़ते शरीर का हिस्सा है जो दर्शाता है कि योग के मानसिक / संज्ञानात्मक लाभ अपने भौतिक लोगों के बराबर या उससे अधिक हो सकते हैं।
    "अतीत में, उदाहरण के लिए, योग पर इसी तरह के नैदानिक ​​अध्ययनों ने इस अभ्यास और अवसाद और चिंता , ध्यान घाटे की सक्रियता विकार (एडीएचडी), पोस्ट अभिघातजन्य  तनाव विकार (पीटीएसडी) , और स्किज़ोफ्रेनिया जैसे गंभीर मानसिक विकारों के बीच एक सकारात्मक लिंक पाया है । एक अध्ययन में यह भी पाया गया कि यह प्रतीत होता है कि सौम्य, कोमल अभ्यास वास्तव में मानसिक क्रियाओं की गति और मानसिक प्रसंस्करण की सटीकता में सुधार करने वाले एरोबिक्स से बेहतर था। "
    संक्षेप में, हल्के संज्ञानात्मक गिरावट वाले रोगियों पर यह अध्ययन नैदानिक ​​सबूतों के बढ़ते शरीर का हिस्सा है, जो यह दर्शाता है कि योग, शरीर के स्वास्थ्य में सुधार के अलावा, मन के स्वास्थ्य में सुधार करने में सक्षम है, न केवल मेमोरी लॉस जैसी समस्याओं के लिए लेकिन चिंता, अवसाद, एडीएचडी जैसे मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों और सिज़ोफ्रेनिया जैसे गंभीर मुद्दों के लिए भी। संक्षेप में, यह अभ्यास आपके स्वास्थ्य के सभी पहलुओं को बेहतर बनाने के लिए वास्तव में एक समग्र तरीका है, इसके अलावा दैनिक आधार पर इसमें भाग लेने वालों के लिए आनंद और संतुष्टि का एक उच्च स्तर लाने के अलावा।

    Yoga For Lungs Strength

    हेल्दी और स्ट्रॉन्ग लंग्स के लिए कमाल है ये एक योगासन, पीठ दर्द और पेट के लिए भी है कारगर.. Best Yoga Asanas For Lungs: हेल्दी फेफड़ों के लि...